Breaking News

इण्डियन स्टील एसोसिएशन द्वारा आयोजित ‘इन्फ्राबिल्ड समिट-2023’

– वेब वार्ता (न्यूज़ एजेंसी)/ अजय कुमार वर्मा
लखनऊ 15 सितम्बर। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के विजन के अनुरूप उत्तर प्रदेश में इंफ्रास्ट्रक्चर के क्षेत्र में व्यापक परिवर्तन हुए हंै। इसके लिए प्रदेश सरकार ने अनेक कदम उठाए हैं। आज राज्य ‘नए भारत के नए उत्तर प्रदेश’ के रूप में भारत की विकास यात्रा का अभिन्न हिस्सा बना है। राज्य ने ईज ऑफ डुइंग बिजनेस में एक लंबी छलांग लगाई है। प्रदेश में निवेश की सम्भावनाओें को साकार करने के लिए कानून-व्यवस्था की स्थापना के साथ ही, सुरक्षा का वातावरण बनाया गया है। मुख्यमंत्री आज यहां इण्डियन स्टील एसोसिएशन द्वारा आयोजित ‘इन्फ्राबिल्ड समिट-2023’ के शुभारम्भ के अवसर पर अपने विचार व्यक्त कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने इण्डियन स्टील एसोसिएशन तथा डेलाॅयट इण्डिया द्वारा बनायी गई नाॅलेज रिपोर्ट ‘अनलाॅकिंग स्टील पोटेंशियल इन इण्डियन बिल्डिंग एण्ड कन्सट्रक्शन इण्डस्ट्री’ को भी जारी किया। मुख्यमंत्री ने इण्डियन स्टील एसोसिएशन द्वारा इन्फ्राबिल्ड समिट का आयोजन देश में सर्वाधिक संभावनाओं वाले प्रदेश उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में किए जाने पर प्रसन्नता व्यक्त की।
       ज्ञातव्य है कि शुभारम्भ सत्र की थीम ‘ट्रांसफार्मिंग कंसट्रक्शन एण्ड इन्फ्रा लैण्डस्केप-एक्सीलेरेटिंग ग्रोथ इन उत्तर प्रदेश एण्ड उत्तराखण्ड’ थी। मुख्यमंत्री ने कहा कि आज देश का सबसे बड़ा सिंगल विंडो प्लेटफाॅर्म निवेश मित्र प्रदेश में है। राज्य सरकार ने 25 सेक्टोरल पॉलिसीज बनाई है। प्रदेश सरकार के साथ होने वाले किसी भी एम0ओ0यू0 की निगरानी के लिए निवेश सारथी पोर्टल कार्य कर रहा है। किसी भी निवेशक द्वारा किए गए निवेश के लिए शासन से मिलने वाले इन्सेन्टिव के लिए भी प्रदेश सरकार ने ऑनलाइन व्यवस्था की है। उत्तर प्रदेश आज इन सभी कार्यक्रमों की दृष्टि से अत्यंत महत्वपूर्ण प्रदेश है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि देश की आबादी का हर पांचवा व्यक्ति उत्तर प्रदेश में निवास करता है। प्रदेश की आबादी 25 करोड़ है। यह देश का सबसे बड़ा उपभोक्ता बाजार तथा श्रम बाजार है। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश की इण्टर स्टेट कनेक्टिविटी को बेहतर किया गया है। नेपाल से जुड़ी हुई प्रदेश की 570 किलोमीटर की सीमा के साथ ही, बिहार, झारखंड, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, राजस्थान, हरियाणा, उत्तराखण्ड तथा दिल्ली से जुड़ी कनेक्टिविटी को फोरलेन में बदलने का कार्य किया गया है। प्रदेश के सभी जिला मुख्यालयों को फोरलेन से जोड़ा गया है। ग्रामीण क्षेत्रों में भी इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेन्ट के कार्य किए गए हैं। प्रदेश में 04 लाख किलोमीटर सड़कों के पूरे तंत्र को सुदृढ़ करने का कार्य किया गया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में भारतीय रेल का सबसे बड़ा नेटवर्क है।
इस अवसर पर औद्योगिक विकास मंत्री नन्दगोपाल गुप्ता ‘नन्दी’, मुख्य सचिव दुर्गा शंकर मिश्र, अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास आयुक्त मनोज कुमार सिंह, सलाहकार मुख्यमंत्री अवनीश कुमार अवस्थी, स्टील अथाॅरिटी आॅफ इण्डिया चेयरमैन अमरेन्दु प्रकाश, जे0एस0डब्ल्यू0 के जे0एम0डी0 जयन्त आचार्य, टाटा स्टील लाँग प्रोडक्ट्स लिमिटेड के एम0डी0 आशीष अनुपम सहित उद्यमी उपस्थित थे।

Check Also

केप्री ग्लोबल कैपिटल ने ग्राहकों को नई कार के लिये दिया 10,000 करोड़ से अधिक का लोन

देश की प्रमुख गैर-बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनी, केप्री ग्लोबल कैपिटल लिमिटेड ने नई कार लोन में …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Live Updates COVID-19 CASES