Tuesday , May 17 2022
Breaking News

नेगलेक्टेड ट्रापिकल डिजीज डे (30 जनवरी) पर विशेष : उपेक्षित बीमारियों पर काबू पाएं

– उपेक्षित बीमारियां रोगी बनाने के साथ परिवार को आर्थिक रूप से कमजोर भी बनाती हैं
– चिकित्सक व जनता का इन बीमारियों के प्रति संवेदनशील होना जरूरी
– जो गलती मुझसे हुई – वह कोई और न करे, फाइलेरिया से सुरक्षित बनें
वेबवार्ता(न्यूज़ एजेंसी)/ अजय कुमार वर्मा
लखनऊ 29 जनवरी। फाइलेरिया, कालाजार, चिकनगुनिया, कुष्ठ रोग जैसी उपेक्षित बीमारियों (नेगलेक्टेड ट्रापिकल डिजीज) को खत्म करने को लेकर स्वास्थ्य विभाग पूरी तरह से दृढ़संकल्प है । समुदाय को भी इन बीमारियों के प्रति संवेदनशील बनाने के लिए ही हर साल 30 जनवरी को नेगलेक्टेड ट्रापिकल डिजीज डे मनाया जाता है । यह बीमारियां किसी इंसान को रोगी बनाने के साथ-साथ परिवार को आर्थिक रूप से कमजोर भी बना देती हैं ।
ट्रापिकल बीमारियों के विशेषज्ञ डॉ. सौरभ पांडेय के मुताबिक यह बीमारियां वायरस, बैक्टीरिया, पैरासाइट, फंगस और टाक्सिन से होती हैं । यह बीमारियां उपेक्षित जनता के बीच ही पाई जाती हैं, इन्हें खत्म किया जा सकता है। हमने चेचक को खत्म किया है, इसी तरह इन बीमारियों को भी खत्म कर सकते हैं।
सतर्कता बरतें- बीमारियों से बचें :
अपर निदेशक वेक्टर बार्न डिजीज डॉ. आर. सी. पाण्डेय का कहना है कि इनमें से अधिकतर बीमारियाँ मच्छरों के काटने से होती हैं। फाइलेरिया नियंत्रण अधिकारी डॉ. सुदेश कुमार के मुताबिक प्रदेश सरकार का कई उपेक्षित बीमारियों पर फोकस बढ़ा है। उम्मीद है कि फाइलेरिया व कालाजार के प्रसार को रोकने में कामयाब होंगे। डॉ. कुमार ने कहा कि एनटीडी पर समुदाय में भी जागरूकता बढ़ाने की जरूरत है।
क्या कहते हैं आँकड़े :
ग्लोबल बर्डन आफ डिज़ीज़ स्टडी की हालिया रिपोर्ट के मुताबिक दुनिया की 16 उपेक्षित बीमारियों में से 11 भारत में बहुतायत में पाई जाती हैं यानि इन 11 बीमारियों के सबसे ज्यादा और सबसे बिगड़े केस अपने देश में हैं। रिपोर्ट बताती है कि भारत में लिम्फैटिक फाइलेरिया के 87 लाख केस हैं जो दुनिया का 29 प्रतिशत है। इसी तरह कालाजार के देश में 13530 केस हैं जो दुनिया का 45 प्रतिशत है। कुष्ठ रोग के 187730 केस हैं जो दुनिया का 36 फीसदी है। रैबीज के 4370 केस हैं जो विश्व का 33 प्रतिशत है।
उपेक्षित बीमारियां : फाइलेरिया, कालाजार, कुष्ठ रोग, चिकनगुनिया, डेंगू, रैबीज, स्कैबीज, हुकवार्म, एसकैरियासिज ।

Check Also

पीरियड्स के दर्द से राहत पाने के लिए इन मुद्राओं का करें अभ्यास, जल्द मिलेगा आराम

पीरियड्स के दौरान कई महिलाओं को पेट में दर्द का सामना करना पड़ता है और …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Live Updates COVID-19 CASES