Sunday , November 28 2021
Breaking News

श्रम कल्याण परिषद ने श्रमिकों के हित में कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए – अध्यक्ष सुनील भराला

वेबवार्ता(न्यूज़ एजेंसी)/ अजय कुमार वर्मा
लखनऊ 27 अक्टूबर। उत्तर प्रदेश श्रम कल्याण परिषद के अध्यक्ष सुनील भराला ने कहा कि श्रम कल्याण परिषद को गतिशील बनाने एवं श्रमिकों के कल्याण के लिए इसके अंतर्गत संचालित योजनाओं के प्रचार-प्रसार के उददेश्य से प्रदेश के प्रत्येक मण्डल/जनपद स्तर पर समीक्षा बैठकें आयोजित की जा रही है। बैठकों में ट्रेड यूनियन व श्रमिकों के प्रतिनिधि तथा सेवायोजकों एवं वाणिज्यिक प्रतिष्ठानों के मालिकों की भागीदारी सुनिश्चित करायी गयी। साथ ही परिषद द्वारा संचालित योजनाओं की समीक्षा का उत्तरदायित्व संबंधित मण्डलायुक्त्त एवं जिलाधिकारियों को भी दिया गया, जिससे योजनाओं का लाभ अधिक से अधिक श्रमिकों के परिवारों को दिलाया जा सके।
श्रम कल्याण परिषद के अध्यक्ष श्री भराला ने आज प्रेस वार्ता करते हुए यह बात कहीं। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में औद्योगिक कारखाना निदेशक के अन्तर्गत 20 हजार 500 कारखानों तथा 06 लाख 500 वाणिज्यिक दुकानों के ऑनलाइन पंजीयन होना है। उन्होंने कहा कि निदेशक, कारखाना/ निदेशक, जीएसटी एवं प्रमुख सचिव, एमएसएमई के साथ उ०प्र० कारखाना मालिकों/ वाणिज्यिक प्रतिष्ठानों के मालिकों से अनुरोध किया गया था कि सभी कारखाना मालिकों/वाणिज्यिक प्रतिष्ठानों के मालिकों को ऑनलाइन पंजीयन कराने की सुविधा दी गयी, जिससे उन्हें बार-बार पंजीयन नहीं कराना पड़ेगा। श्रम कल्याण परिषद के न्यायिक क्षेत्र के अंतर्गत संचालित योजनाओं का लाभ सभी श्रमिकों तक पहुंचाने का कार्य किया गया।
श्री भराला ने कहा कि श्रम कल्याण परिषद की योजनाओं के अन्तर्गत ज्योतिबा फुले श्रमिक कन्यादान योजना में 51000 रूपए, डा0 एपीजे अब्दुल कलाम श्रमिक प्राविधिक शिक्षा सहायता योजना के तहत 7000 से लेकर 15000 रूपये तक, गणेश शंकर विद्यार्थी श्रमिक पुरस्कार राशि योजना में 5000 से लेकर 7500 रूपये, हरिश्चन्द्र मृतक श्रमिक अर्थिक सहायता योजना के अन्तर्गत 25000 रूपये, दत्तोपंत ठेगड़ी मृतक श्रमिक अंत्येष्टि सहायता योजना में 10000 रूपये, चेतन चौहान श्रमिक क्रीड़ा प्रोत्साहन योजना में 25000 से लेकर 100000 रूपये तक, महादेवी वर्मा पुस्तक क्रय आर्थिक सहायता योजना में 7500 रूपये तथा श्रवण कुमार श्रमिक परिवार धार्मिक पर्यटन यात्रा योजना के तहत 12000 रूपये आर्थिक सहायता लाभान्वित श्रमिक व उसके परिवार को दिया जाता है।
श्री भराला ने कहा कि श्रम कल्याण परिषद की योजनाओं से अधिक से अधिक श्रमिकों को लाभान्वित किया जा रहा है। वर्तमान वित्तीय वर्ष में बोर्ड द्वारा विभिन्न योजनाओं में 25 हजार श्रमिकों को लाभान्वित कराने का लक्ष्य रखा गया है। उत्तर प्रदेश श्रम कल्याण परिषद अधिनियम 1965 का अधिनियम पुराना होने से इसके बहुत से प्राविधान अनुपयोगी हो जाने से अधिनियम में संशोधन की कार्यवाही की जा रही है। इसी प्रकार संगठित क्षेत्र के कर्मकारों का परिषद में पंजीयन कराने का प्रविधान किया जा रहा है, जिससे प्रत्येक पंजीकृत श्रमिक को योजनाओं का लाभ प्राप्त हो सके।
सुनील भराला द्वारा बताया गया कि उत्तर प्रदेश के समस्त जिलों में कार्यरत श्रम प्रवर्तन अधिकारियों को श्रमिकों के हित में प्रार्थना पत्रों केे त्वरित अनुमोदन हेतु श्रम विभाग की आई.डी. जारी करने के निर्देश दिये गये हैं। यू०पी० के सभी श्रमिकों के लिए यूनीफाइड नं0 जारी किये जाने हेतु समिति का गठन किया गया है। श्रम कल्याण परिषद अपनी सभी योजनाओं में धनराशि बढ़ाने का निर्णय लिया है। उन्होंने बताया कि प्रदेश के विभिन्न मण्डलों में श्रम कल्याण परिषद द्वारा संचालित योजनाओं का नाम महापुरुषों के नाम पर रखने तथा कारखानों/वाणिज्यिक दुकानों के श्रमिकों के बीच योजनाओं के प्रचार-प्रसार के लिए संगोष्ठी आयोजित की जा रही है। इसी प्रकार समस्त योजनाओं के सुचारू रूप से संचालन के लिए दान/अंशदान बढ़ाने पर जोर दिया गया है, जिससे आने वाले समय में योजनाओं का संचालन बेहतर ढंग से हो सके। परिषद को 12 ए और 80 जी के तहत पंजीकृत कराने की कार्यवाही चल रही है ताकि श्रम कल्याण परिषद को दिया गया दान अनुदान आयकर से मुक्त हो जाय और कल्याणकारी योजनाओं हेतु धन प्राप्त हो सके।
श्री भराला ने बताया कि श्रम कल्याण परिषद की योजनाओं का लाभ श्रमिकों को पूर्ण रूप से मिल सके, इसके लिए समस्त योजनाओं को जनहित गारण्टी योजना में शामिल किया गया है। उन्होंने बताया कि 10 नवम्बर, 2021 को राष्ट्रऋषि पं0 दत्तोपंत ठेगड़ी की 101वीं जयन्ती के अवसर पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ उप मुख्यमंत्री डॉ0 दिनेश शर्मा व विधान परिषद सदस्य स्वतंत्र देव सिंह को आमंत्रित किया गया है। इस अवसर पर प्रदेश के विभिन्न मण्डलों में श्रवण कुमार श्रमिक परिवार धार्मिक पर्यटन यात्रा आरम्भ की जायेगी। लखनऊ मण्डल में इस धार्मिक पर्यटन यात्रा का शुभारम्भ मुख्यमंत्री द्वारा झण्डा दिखाकर किया जायेगा।
प्रेसवार्ता में परिषद के सदस्य मुरहू राजभर, राधेकृष्ण त्रिपाठी, विशेष आमंत्रित सदस्य विवेक सक्सेना, रविकान्त मिश्रा सम्मिलित हुए।

Check Also

योगी ने समीक्षा बैठक में कोविड संक्रमण से उपचार को निरन्तर प्रभावी बनाए रखने के निर्देश दिए

वेबवार्ता (न्यूज़ एजेंसी)/ अजय कुमार वर्मा लखनऊ 24 नवंबर। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Live Updates COVID-19 CASES