Friday , February 3 2023
Breaking News

रेशम उत्पादन के लिए SKUAST और सेरीकल्चर रिसर्च इंस्टीट्यूट के बीच समझौता

वेब वार्ता / अजय कुमार वर्मा
भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा सिल्क उत्पादक देश है। यहां मलबेरी सिल्क का ज्यादातर उत्पादन बाइवोल्टिन ब्रीड के बजाय क्रॉस ब्रीड से किया जाता है। बाइवोल्टिन सिल्क के क्षेत्र में उत्पादन बढ़ाने की काफी गुंजाइश है, खासकर जम्मू क्षेत्र में जम्मू-कश्मीर में रेशम कीट पालन को बढ़ावा देने के लिए शेर-ए-कश्मीर यूनिवर्सिटी ऑफ एग्रीकल्चर साइंसेज एंड टेक्नोलॉजी (SKUAST) और सेंट्रल सेरीकल्चर रिसर्च एंड ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट (SRTI) के बीच समझौता (MOU) हुआ है। पंपोर स्थित यह इंस्टीट्यूट केंद्रीय टेक्सटाइल मंत्रालय के सेंट्रल सिल्क बोर्ड के अधीन आता है।
एमओयू पर SKUAST के वाइस चांसलर प्रो. जे.पी. शर्मा और SRTI के डायरेक्टर-इन-चार्ज डॉ. सरदार सिंह ने दस्तखत किए। इस मौके पर एसकेयूएएसटी के रिसर्च डायरेक्टर डॉ. प्रदीप वाली, एसोसिएट रिसर्च डायरेक्टर डॉ. महितल जामवाल, क्षेत्रीय सेरीकल्चर रिसर्च स्टेशन के वैज्ञानिक डॉ. संतोष कुमार मगदम और डॉ. विनोद सिंह भी मौजूद थे।
डॉ. सरदार सिंह ने कहा कि जम्मू-कश्मीर अच्छी क्वालिटी के ‘बाइवोल्टिन सिल्क’ उत्पादन के लिए जाना जाता है, जिसकी देश में कमी है। उन्होंने बताया कि आज राज्य में करीब 27,000 परिवार रेशम कीट पालन से जुड़े हैं। इनमें से 19,000 जम्मू क्षेत्र में हैं। जम्मू-कश्मीर में हर साल लगभग सात लाख किलो सिल्क ककून का उत्पादन होता है, जबकि क्षमता 35 लाख किलो की है। उन्होंने बताया कि अन्य किसी भी नकदी फसल की तुलना में रेशम उत्पादन में कम समय लगता है। अच्छी क्वालिटी के सूखे ककून की कीमत 2000 रुपये प्रति किलो तक मिल सकती है।
प्रो. जे.पी. शर्मा ने कहा कि इस एमओयू को जल्दी ही जमीन पर उतारा जाएगा। जिसे हम शोधार्थियों को गाइड कर सकते हैं और किसानों की जरूरतें पूरी कर सकते हैं।

Check Also

यू0पी0 में हुआ धमाका, उदयराज कैसे बना अहमद हुसैन

वेब वार्ता (न्यूज़ एजेंसी)/ अजय कुमार वर्मा लखनऊ 29 जनवरी। उत्तर प्रदेश के कौशाम्बी जनपद …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Live Updates COVID-19 CASES