Tuesday , May 17 2022
Breaking News

मुंहासों की समस्या से राहत दिलाने में कारगर हैं ये खाद्य पदार्थ

अगर आपको मुंहासें की समस्या है और आप जंक फूड, एनर्जी ड्रिंक, शराब, दुग्ध उत्पाद, रिफाइंड खाद्य पदार्थ और मसालेदार खाद्य पदार्थ का सेवन करते हैं तो आज से ऐसा करना छोड़ दें, क्योंकि ये आपकी समस्या बढ़ा सकते हैं। मुंहासें रहित त्वचा पाने के लिए लोग न जाने कितने रूपये यूं ही खर्च कर देते हैं, लेकिन डाइट में कुछ खाद्य पदार्थों को शामिल करके इस समस्या से जल्द राहत पा सकते हैं। आइए आज हम आपको कुछ ऐसे ही खाद्य पदार्थों के बारे में बताते हैं, जिनका सेवन प्राकृतिक रूप से त्वचा के अतिरिक्त सीबम के उत्पादन को नियंत्रित करके मुंहासों से छुटकारा दिला सकता है।
कैरोटीनॉयड से भरपूर खाद्य पदार्थ
कैरोटीनॉयड एक ऐसा पोषक तत्व है, जो एंटी-ऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी प्रोपर्टीज से युक्त होता है, इसलिए इससे भरपूर खाद्य पदार्थों का सेवन मुंहासों से राहत दिलाने में काफी मदद कर सकता है। बता दें कि गाजर, पालक, केल, वेजिटेबल सूप, आम, पपीता, टमाटर और शकरकंद कैरोटेनॉयड्स के समृद्ध स्रोत हैं। वहीं, इन खाद्य पदार्थों में जिंक की भी अच्छी खासी मात्रा मौजूद होती है, जो त्वचा के अतिरिक्त सीबम को नियंत्रित करने में मदद करता है।
नींबू
नींबू का सेवन भी मुंहासों से राहत दिलाने में मदद कर सकता है क्योंकि यह विटामिन- सी से समृद्ध होता है। वहीं, विटामिन- सी में एंटी-इंफ्लेमेटरी गतिविधि होती है। इस गतिविधि की वजह से विटामिन- सी मुंहासों से बचाने में मदद क सकता है। इसके अतिरिक्त, यह मुंहासों के कारण होने वाले घाव को भरने और हाइपरपिग्मेंटेशन को रोकने में भी सहायता प्रदान कर सकता है। इसलिए डाइट में नींबू को जरूर शामिल करें।
सूखे मेवे
अगर आपकी त्वचा पर मुंहासें होते रहते हैं तो आपके लिए अपनी डाइट में बादाम और अखरोट जैसे सूखे मेवे शामिल करना फायदेमंद हो सकते हैं। इसका मुख्य कारण यह है कि सूखे मेवे एंटी-ऑक्सिडेंट गुण युक्त होते हैं, जो मुंहासों से राहत दिलाने में मदद कर सकता है। इसके अतिरिक्त, सूखे मेवे सेलेनियम, विटामिन- ई, कॉपर, मैग्नीशियम, मैंगनीज, पोटेशियम, कैल्शियम और आयरन युक्त होता है, जो स्वस्थ त्वचा के लिए आवश्यक हैं।
सालमन मछली और मैकेरल मछली
सालमन, मैकेरल और सार्डिन जैसी मछलियां ओमेगा-3 और ओमेगा-6 फैटी एसिड के बेहतरीन स्रोत हैं। ये दोनों फैटी एसिड हार्मोन टेस्टोस्टेरोन को नियंत्रित कर सकते हैं, जो मुंहासों का कारण माना जाता है। इसके अतिरिक्त, ये फैटी एसिड आपकी त्वचा को सूरज की हानिकारक किरणों के प्रभाव से बचाने, त्वचा के कैंसर के जोखिम को कम करने और किसी भी तरह के दाग-धब्बों को दूर करने में सहायक हैं। इसलिए डाइट में इन मछिलयों को जरूर शामिल करें।

Check Also

नेगलेक्टेड ट्रापिकल डिजीज डे (30 जनवरी) पर विशेष : उपेक्षित बीमारियों पर काबू पाएं

– उपेक्षित बीमारियां रोगी बनाने के साथ परिवार को आर्थिक रूप से कमजोर भी बनाती …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Live Updates COVID-19 CASES